MIRACLE : 51-year-kamaljeet-desi-ghee-startup-in-corona-business-of-20-lakhs-month | 51 साल की कमलजीत ने कोरोना में देसी घी का स्टार्टअप शुरू किया, अब हर महीने 20 लाख का बिजनेस

By | January 31, 2022

51-year Kamaljeet  desi ghee startup in corona business of 20 lakhs month | 51 साल की कमलजीत ने कोरोना में देसी घी का  स्टार्टअप शुरू किया, अब हर महीने 20 लाख का बिजनेस

Table of Contents

51-year-lady-desi-ghee-business-20-lakhs-month

51-year-kamaljeet-desi-ghee-startup-in-corona-business-of-20-lakhs-month

पंजाब की कमलजीत कौर ने एक साल पहले Kimmu’s Kitchen की शुरुआत की थी। आज वह भारत के तमाम शहरों में और विदेशों में ताजे बिलौना वाले घी का स्वाद पहुंचा रही हैं।

51-year-kamaljeet-desi-ghee-startup-in-corona-business-of-20-lakhs-month

51-year-kamaljeet-desi-ghee-startup-in-corona-business-of-20-lakhs-month

 

कोरोना के बाद लोगो का ध्यान अपने इम्यून सिस्टम को मजबूत करने पर , अच्छा खान-पान , सम्मान की शुध्दता और हर्बल प्रोडक्ट्स पर बहुत बाद गया है पुराने लोगो का मानना है की जो सामान की शुध्दता उनके ज़माने में थी ,आज वो बात नहीं है। ,ऐसा ही कुछ पंजाब में पली-बढ़ीं और ठाणे मुंबई की रहनेवाली 51 साल की कमलजीत कौर का मानना है ,

जब 2020 में कोरोना अपने चरम पर था तो कमलजीत भी इसकी शिकार हो गईं। कोरोना से उनके लंग्स में इन्फेक्शन हो गया था ,उनके इलाज के दौरान, एक समय ऐसा आया जब डॉक्टर्स ने भी उनके बचने की उम्मीद छोड़ दी थी, उनके परिवार में भी निराशा छा गयी थी लेकिन 4-5 महीने इलाज के बाद उनकी तबीयत ठीक हुई।

51-year-kamaljeet-desi-ghee-startup-in-corona-business-of-20-lakhs-month

आज कमलजीत कौर जी को ऐसा लगता है , उनका बचपन में ,पंजाब का खाया शुद्ध खाना पीना ,असली दूध , घी मक्खन ही काम आया , की उनका शरीर इतना मजबूत था की ये सब कुछ झेल गया। और ऐसा क्या था, जिसकी वजह से उन्हें बीमारी से लड़ने की ताकत मिल पाई और वह ठीक हो पाईं।

देसी घी का स्टार्टअप कैसे शुरू हुआ ?

अब क्योकि देसी प्रोडक्ट्स की डिमांड मार्किट में काफी बाद गयी है , हुआ कुछ ऐसे की , कमलजीत के परिवार की पंजाब में खूब खेती-बाड़ी है।और वहां पर वो लोग घर पर ही गाय-भैंस पालते हैं और घर में इतना दूध होता है , की घर पर बहुत सारा घी तैयार होता है और यहाँ तक की , मुंबई आने के बाद भी उन्होंने कभी बाहर से घी नहीं खरीदा।

अब कोविड का समय आया , तो लोगो को जिंदगी की सच्चाई दिख गयी , लोग खूब एक दूसरे के काम आये , तो मुंबई में उनके आस पास के कुछ लोगों को देसी घी की जरूरत थी। अब उनके पास घर का असली पंजाब का घी था ,तो उन्होंने उन्हें दे दिया। उन लोगों को हमारा घी काफी पसंद आया। तो और लोगो ने भी उनसे घी माँगा , और वे लोग उसके बाद उनसे बार बार घी की मांग करने लगे

इसी मौके को भांपते हुए कमलजीत कौर जी ने कोविड के दौरान देसी घी का स्टार्टअप ही शुरू किया था , कमलजीत कहती हैं कि कोविड का दौर मेरे लिए काफी मुश्किल रहा। तब मन में कई तरह के ख्याल आ रहे थे। इसलिए रिकवर होने के बाद मैंने तय किया कि रोजमर्रा की लाइफ से हटकर कुछ ऐसा काम किया जाए, जिससे मुझे याद रखा जाए।तो उन्होंने शुद्ध घी का काम शुरू किया , और अब तो वे देश भर में इसकी मार्केटिंग कर रही हैं। भारत के बाहर भी कुछ प्रोडक्ट उन्होंने भेजे हैं।

कमलजीत कहती हैं कि उस वक्त उनसे लोगों ने कहा कि बाजार के घी में वो क्वालिटी नहीं मिलती , जो आपके शुद्ध घी में है , हमें आपका घी बहुत पसंद आया और हम लोग रेगुलर आपसे घी खरीदेंगे, इसलिए आप कॉमर्शियल लेवल पर घी बेचना शुरू कर दीजिये , और यही से कमल जीत कौर जी को ये आईडिया आया , और उनके बेटे हरप्रीत ने भी सपोर्ट किया। इसके बाद साल 2020 के अंत में कमल जीत कौर ने Kimmu’s Kitchen ब्रांड नाम से अपना घी का काम शुरू कर दिया ,और मुंबई में वो घर पर ही घी तैयार करने लगी।

51-year-kamaljeet-desi-ghee-startup-in-corona-business-of-20-lakhs-month

51-year-kamaljeet-desi-ghee-startup-in-corona-business-of-20-lakhs-month

मुंबई के बने घी में वो टेस्ट नहीं आया , तो पंजाब के घी में था

शुरू में तो उन्होंने मुंबई से ही लोकल डेयरी से दूध खरीदकर घर पर घी तैयार करना शुरू कर दिया ,और उसकी पैकिंग करके लोगो को बेच भी दिया , पर उस घी में वो पंजाब के घी वाली खुशबू नहीं थी ,हालाँकि लोगों को ये घी भी पसंद आया और सारा घी 1 -2 हफ्ते में बिक भी गया , लेकिन इस घी में वो टेस्ट भी नहीं था जो गांव से लाए घी में था। और ये मुंबई के दूध की क्वालिटी का ही अंतर था क्योकि पंजाब का दूध भी घर का शुद्ध दूध था। और अब उन्होंने घी को पंजाब में ही बनाने का आईडिया सोचा

इसके बाद कमलजीत अपने बेटे हरप्रीत के साथ पंजाब अपने गांव गयी , और उन्होंने कुछ और भैंस खरीदी , भैंसों की संख्या बढ़ा दी। कुछ लोगों को काम पर रखा और उन्हें बताया और सिखाया , की उन्हें कैसा घी तैयार चाहिए , कुछ महिलाओं को भी काम पर रखाऔर फिर घी का प्रोडक्शन वही शुरू हो गया , शुरू में उनके करीब 7-8 लाख रुपए का खर्चा हो गया था। उन्होंने वहां गांव में ही एक अच्छा खासा प्रोडक्शन यूनिट तैयार कर दिया था , और अब घी वहां से तैयार होकर मुंबई आने लगा, वहां मुंबई में आने के बाद उस घी की पैकिंग और लेबलिंग कर के उसको सेल करने लगी ,

क्या है बिज़नेस मॉडल? कैसे करती हैं मार्केटिंग?

पंजाब में उनकी अपनी 30 से ज्यादा भैंसें हैं। और वहां के बहुत से परिवार उनके लिए घी तैयार करते है , उन्होंने उन्हें बढ़िया तरीके से घी बनाने का काम सीखा दिया है और वो लोग बिलकुल उनके बताये तरीके से बढ़िया क्वालिटी का घी तैयार करते है और घी बनने के बाद फिर मुंबई आ जाता है , यहाँ पर घी को चेक करके , उसकी पैकिंग करके उसको सेल किया जाता है ,आज वो देशभर घी की मार्केटिंग कर रही है और हर एक हफ्ते बाद घी पंजाब से आता है।

कमलजीत जी के अनुसार घी पूरी तरह वैदिक तरीके से तैयार किया ज़ाता है , इसमें लाइफ सपोर्टिंग एलिमेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं।

कमलजीत कौर टेक्नोलॉजी का भी पूरा प्रयोग कर रही है , उन्होंने एक डिजिटल मार्केटिंग टीम रखी हुई है, और वो फेस बुक और अन्य सोशल मीडिया और गूगल पर पेड प्रमोशन करते हैं। आज वो ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही लेवल पर मार्केटिंग कर रही हैं। और
उनकी अपनी एक वेबसाइट भी है जहाँ से लोग उनको घी के लिए आर्डर कर सकते है , देखते ही देखते कुछ ही महीनों में देशभर में कमलजीत का घी पहुंच गया है। इसके साथ ही मुंबई, दिल्ली और पंजाब में कुछ शॉप पर भी उनका शुद्ध घी उपलब्ध है। उन्हें अब हर महीने लगभग 2 हजार ऑर्डर मिल रहे हैं।

कैसे तैयार करती हैं घी?

कमल जीत कौर घी बनाने के लिए भैंस के दूध का इस्तेमाल करती है। कमलजीत कहती है की हम पूरी तरह देसी तरीके से ही घी तैयार करते हैं। सबसे पहले दूध को बहुत देर तक उबाला जाता है , फिर उसे ठंडा होने के लिए रख दिया जाता है , जब हलके गर्म रहता है , तब उसमे एक चम्मच दही डालकर उसे ढक कर रातभर के लिए छोड़ दिया जाता है , सुबह दही तैयार मिलती है , अब इस दही को बिलोने से मथकर उससे मक्खन निकालते हैं। ,

फिर मक्खन को धीमी आंच पर रखकर पकाया जाता है। कुछ देर बाद उससे घी तैयार हो जाता है।इससे ही बिलोना वाला घी कहते है ये घी पूरी तरह प्योर होता है और इसमें किसी तरह की मिलावट नहीं होती है। तैयार घी मुंबई लाया जाता है और यहां पूरा परिवार मिलकर अलग-अलग डिब्बों में उसकी पैकिंग करता है , 220 ML से लेकर 1 L के डिब्बे में वह घी तैयार करती हैं। 220 ML वाले घी की कीमत 399 रुपए है। वहीं एक लीटर वाले घी की कीमत 1499 रुपए है।

आज कमल जीत कौर का start -up Kimmu’s Kitchen हर महीने 20 लाख रुपये तक कमा रहा है। और वो हर महीने लगभग 45,000 बोतल घी बेच रही है ,लेकिन इस कमाई का एक हिस्सा सेवा के लिए निकाला जाता है वह गुरुद्वारे में लोगों को खाना खिलाना हो या फिर सी और तरीके की सेवा के लिए यूज़ किया जाता है।

बिज़नेस में उतार चढाव चलते रहते है ,कुछ दिन ऐसे होते हैं, जब तकरीबन 100 ऑर्डर मिल जाते हैं और कभी लगभग इससे आधे और कभी कभी कोई भी आर्डर नहीं मिलता है , लेकिन कुल मिला कर सब कुछ सही चल रहा है ,

कमलजीत के बेटे हरप्रीत का कहना है “हम मां का अभिमान नहीं, मां हैं हमारा अभिमान है ”
और वो कहते है , “मेरी मां ने बहुत सारी भूमिकाएं निभाई हैं। एक बेटी, पत्नी, मां और एक दोस्त। अब 50 की उम्र में उन्हें एक सफल उद्यमी के रूप में देखना, पुरे परिवार के लिए एक भावनात्मक क्षण है।

अभी तक वो सिर्फ भारत के शहरों में शिपिंग कर रहे थे। लेकिन कुछ हफ्ते पहले उन्हें पोलैंड से घी का एक ऑर्डर मिला है।

आप भी अगर Kimmu’s Kitchen से घी खरीदना चाहते हैं, तो आप Kimmuskitchen.com पर लॉग इन कर सकते हैं।

यदि आपको CHANGE YOUR LIFE की MOTIVATIONAL कहानियां पसंद आती हैं या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हैं तो हमें [email protected] पर लिखें या Facebook, Twitter पर संपर्क करें।

 

यह भी पढ़े :-

ढाबा चलानेवाला12वीं पास लड़का, बन गया रिजॉर्ट का मालिक | 12th pass boy running Dhaba, became the owner of the resort

Amazing : Stroy-of-momos-king-came-in-search-of-job | कैसे बने मोमोस किंग, काम की तलाश में गढ़वाल से आए थे लखनऊ,आज 4 रेस्टोरेंट्स के हैं मालिक

BEST online-pickle-business-by-bihari-nanad-bhabhi | दरभंगा की मशहूर ,ननद-भाभी का Homemade अचार

चाय पी के cup खा लो | DRINK TEA IN IT, THEN EAT CUP

सपनों का मतलब | सपनों का अर्थ | sapno ka matlab | sapno ka matlab hindi

YouTube चैनल शुरू करते ही होगी अंधाधुंध कमाई, जानें कमाल का तरीका

बेटे के चॉकलेट खाने की ज़िद ने लॉकडाउन में शुरू करवा दिया टीचर मम्मी का साइड बिज़नेस

medium.com

link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *