सुकून से मरना हो तो कर लें ये 8 काम

By | October 28, 2021

सुकून से मरना हो तो कर लें ये 8 काम

How To Die Peacefully in Hindi
How To Die Peacefully in Hindi

दोस्तों, मरने की बात करना अच्छा तो नहीं लगता पर हाल ही में मैंने इतने जान-पहचान और करीबी लोगों को मरते हुए देख लिया कि लगा इस पर बात करनी चाहिए, और यह जीवन की अटल सच्चाई है।

दोस्तों, कोरोना की दूसरी लहरजब आई तो लाखों जिंदगियां लील कर गई। जो मर गए ,वो तो मर गए।।। लेकिन जिस परिवार का मुख्य मेंबर चला गया , वो परिवार भी मरे सामान हो गया

कोरोना के कोहराम के बाद शायद ही कोई ऐसा हो जिसके आस-पास कोई परिवार ना उजड़ा हो.

असर ये हुआ कि मौत ज़िन्दगी की सच्चई लगने लगी… of course मौजूद तो ये हमेशा से थी पर “अचानक” ही प्रकट हो सकती है इस पर यकीन नहीं था…. खैर अब पुराना यकीन टूटा और मौत एक नई हकीकत बन कर हम सबके सामने खड़ी है.

तो करें क्या ?

मौत से डर जाएं?

जीना छोड़ दें ?

नहीं!

मौत की तैयारी करें!

जी हाँ –

सुकून से जीना भले मुश्किल हो मरा तो जा ही सकता है!

Gau Mata ki jhutan ka pratap

और आज मैं इस लेख में ऐसी ही कुछ बातें आपसे बता रहा हूँ जो आपको सुकून से मरने में मदद करेंगी.

8 Ways To Die Peacefully in हिंदी

सुकून से मरने के लिए कर लें ये 8 काम

1. टर्म इंश्योरेंस करवा लें:
ये आपके जाने के बाद परिवार को financial crisis से बचाने का सबसे अच्छा तरीका है. Term insurance की लागत कम होती है और बीमा अधिक. इसलिए इस ज़रूरी काम को टालें नहीं. चाहें तो ऑनलाइन भी आप टर्म इंश्योरेंस खरीद सकते हैं.

और पहले से करवाया है तो भी ध्यान रखें कि आपके सभी प्रीमियम जमा हैं और नॉमिनी वही है जिसे नॉमिनी होना चाहिए.

पढ़ें: टर्म इन्शुरन्स : हर ज़रूरी बात जो आपको जाननी चाहिए!

2. वसीहत बनवा लें:
कोरना काल में एक अजीब चीज हुई. 30-40 age group के लोग भी अपनी वसीहत लिखने लगे. ये भी की मेरे जाने के बाद मेरी कार किसकी होगी, मेरा iPhone कौन लेगा और मेरा फ्लैट किसे दिया जाएगा. आप अपने वकील से मिलकर या विश्वास हो तो काग़ज पर लिख कर अपनी वसीहत सुरक्षित रख सकते हैं.

3. अपनी इन्वेस्टमेंट्स डिस्क्लोज करें :
अपने spouse या पेरेंट्स से अपने इन्वेस्टमेंट्स के बारे में बता दें या कम से कम एक डायरी में उनके बारे में लिख कर रखें. आज कल हम बहुत कुछ ऑनलाइन करते हैं ऐसे में ज़रूरी id / passwords भी हमें नोट करके रखने चाहिए, ताकि अनहोनी होने पर हमारे अपने इन चीजों को लेकर परेशान ना हों.

BHAGWAN KA GHAR

4. किसी के लिए कुछ करना चाहते हैं तो कर डालें :
मेरा एक दोस्त है वो अपने पापा के लिए कार लेना चाहता था, पर सही वक़्त का इंतज़ार करते-करते गलत वक़्त आ गया. उसके पापा स्वर्ग सिधार गए. अज ज़िन्दगी भर उसे ये मलाल रहेगा कि वो अपने पापा के लिए कार नहीं ले पाया. What I mean to say is कि आप अपने loved ones के प्रति अपना प्यार जताने में झिझकें नहीं और ना ही अनावश्यक delay करें. हर एक दिन एक सुनहरा मौका है अपना आभार प्रकट करने का, अपना प्यार जताने का… so just do it!

पढ़ें: आप जो करना चाहते हैं वो हो सकता है…

5. माफ़ करें और माफ़ी मांगें :
पहेल ही ज़िन्दगी 4 दिन की थी, कोरोना इसे और छोटा करने पे तुला है. 🙂

इसलिए छोड़िये अपनी नाराजगी, let your ego go…. जिसे माफ़ किया जा सकता है उसे माफ़ कर दीजिये और जिससे माफ़ी मांगी जा सकती है उससे माफ़ी मांग लीजिये. ऐसा करके आप बहुत हल्का महसूस करेंगे! और ऐसा करना किसी भी और व्यक्ति से ज्यादा आपके लिए अच्छा साबित होगा. But रिश्तों से रिलेटेड एक और चीज है, जो नेक्स्ट पॉइंट में कवर्ड है-

6. जबरदस्ती के रिश्तों और दोस्तों को अलविदा करें:
जब ज़िन्दगी में इतनी uncertainties हों तो वक़्त का सही इस्तेमाल और भी ज़रूरी हो जाता है. इसलिए throw the garbage out of your life. हमारी लाइफ में कई लोग ऐसे होते हैं जिनके presence से ही हमें uneasy feel होने लगता है, फिर भी हम मुस्कराहट का मुखौटा लगाए इन रिश्तों को ढोते रहते हैं. इसकी कोई ज़रूरत नहीं है, ऐसे लोगों को अवॉयड करिए और धीरे-धीरे इनसे बहुत दूर हो जाइए.

7. कुछ अच्छा करें :
कुछ ऐसा जो आपकी आत्मा को ख़ुशी दे…. जो आपके physical self से बड़ा हो … जो आपको भगवान् के निकट ले जाए…. ये कुछ भी हो सकता है… ध्यान लगाना , पूजा-पाठ…अनजान लोगों की मदद करना…किसी pet को adopt करना… पेड़ लगाना…. whatever appeals to you. लाइफ में completeness लाने के लिए खुद से ऊपर उठ कर कुछ न कुछ ज़रूर करना चाहिए. ऐसे कामों को सन्यास आश्रम के लिए ना छोड़ें… क्योंकि life कितनी uncertain है ये आप जान ही चुके हैं.

8. खुशियों को टालना छोडें :
ऐसे बहुत से मौके आये जब आप परिवार या दोस्तों के साथ एन्जॉय कर सकते थे, पर काम के कारण या पैसे बचाने के चक्कर में आपने उन मौकों को जाने दिया. कभी-कभार ये बिहेवियर समझ आता है…पर ये आदत बन जाए तो what’s the use of this life?

आप इस दुनिया में खोने के लिए नहीं, पाने के लिए आये हैं…. ढेर सारी खुशियाँ, ढेर सारा प्यार, deep satisfaction.

पढ़ें: क्या है ज़िन्दगी का सबसे बड़ा अफ़सोस ?

इसलिए please अपनी खुशियों को टालना छोडिये….. enjoy करना शुरू कीजिये!

ताकि जब आप जाएं तो ये अफ़सोस ना रहे कि आप कर सकते थे पर किया नहीं!

Friends, कल क्या होगा कोई नहीं जानता, पर आज हम क्या कर सकते हैं ये हमारे ऊपर डिपेंड करता है. इसलिए चलिए आज कुछ ऐसा करें कि कल हमारे न होने पे हमारे प्रियजनों को कम से कम असुविधा हो. And I am sure, कि जब आप एक बार ये चीजें कर लेंगे तो आपका आज भी पहले से ज्यादा संतुष्ट और सुखद हो जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.