bhagwan-ka-ghar | भगवान का घर

By | September 9, 2021

भगवान का घर | bhagwan-ka-ghar

bhagwan-ka-ghar | भगवान का घर CHANGEYOURLIFE.IN

 

 

 

 

 

एक दोपहर मैं बैंक में गया था! वहाँ एक बुजुर्ग भी अपने काम से आये थे! वहाँ वह कुछ ढूंढ रहे थे! मुझे लगा शायद उन्हें पेन चाहिये! इसलिये उनसे पुछा तो, वह बोले पेन तो मेरे पास है । लेकिन वृद्धावस्था व् अस्वस्थता के कारण मेरे हाथ कांप रहे हैं और मुझे पैसे निकालने की स्लीप भरनी है उसके लिये मैं देख रहा हूँ कि कोई मदद कर दे।

मैं बोला आपको कोई हर्ज न हो तो मैं आपकी स्लीप भर देता हूँ।

उन्होंने मुझे स्लीप भरने की अनुमति दे दी! मैंने उनसे पुछकर स्लीप भर दी!

रकम निकाल कर उन्होंने मुझसे पैसे गिनने को कहा मैंने पैसे भी गिन दिये।

हम दोनों एक साथ ही बैंक से बाहर आये तो, बोले ।

साॅरी तुम्हें थोडा कष्ट तो होगा परन्तु मुझे रिक्शा करवा दो इस भरी दोपहरी में रिक्शा मिलना बडा़ कष्टकारी होता है।

मैं बोला मुझे भी उसी तरफ जाना है, मैं तुम्हें कार से घर छोड देता हूँ।

वह तैयार हो गये। हम उनके घर पहूँचे। ’80’ × 120′ के प्लाट पर बना हुआ घर क्या बंगला कह सकते थे।

घर में उनकी वृद्ध पत्नी थीं! वह थोडी डर गई कि इनको कुछ हो तो नहीं गया जिससे उन्हें छोडने एक अपरिचित व्यक्ति घर तक आया हैं! फिर उन्होंने पत्नी के चेहरे पर आये भावों को पढकर वह बोले कि “चिंता की कोई बात नहीं यह मुझे छोडने आये है।

फिर बातचीत में वह बोले इस भगवान के घरमें बस हम दोनों पति-पत्नी ही रहते हैं! हमारे बच्चे तो विदेश में रहते हैं।

मैंने जब उन्हें —भगवान के घर—के बारे में पुछा तो उन्होंने बताया कि

हमारे परिवार में भगवान का घर कहने की पुरानी परंपरा है! इसके पीछे की भावना हैं कि यह घर भगवान का है और हम उस घर में रहते हैं! जबकि लोग कहते हैं कि “घर हमारा है और भगवान हमारे घर” में रहते है।

मैंने विचार किया कि दोनों कथनों में कितना अंतर है! तदुपरांत वह बोले…

भगवान का घर बोला तो अपने से कोई “नकारात्मक कार्य नहीं होते और हमेशा सदविचारों से ओत प्रेत रहते हैं।”

बाद में मजाकिया लहजे में बोले …

“लोग मृत्यु उपरान्त भगवान के घर जाते हैं परन्तु हम तो जीते जी ही भगवान के घर का आनंद ले रहे हैं।

यह वाक्य ही जैसे भगवान ने दिया कोई प्रसाद ही है!

भगवान ने ही मुझे उनको घर छोडने की प्रेरणा दी!

“घर भगवान का और हम उनके घर में रहते हैं”

यह वाक्य बहुत दिनों तक मेरे दिमाग में घुमता रहा, सही में कितने अलग व् सही विचार थे!

हमको उपरोक्त प्रसंग से प्रेरित होकर अगर हम इस पर अमल करेंगे तो हमारे और आनेवाली पीढियों के विचार भी वैसे ही हौंगे!
अच्छे कार्य का प्रारंभ जबसे भी करो , कभी देर नहीं होती। वही नई सुबह है!

यह प्रसंग मेरी ज़िन्दगी बदलने वाला साबित हुआ, बहुत प्रेरणादायक/शिक्षाप्रद लगा इसलिए आपको भी शेयर कर रहा हूँ! आपसे भी अनुरोध है कि अगर उचित लगे तो आप भी शेयर करना!

अगर केवल 10 भाइयो या बहनों ने भी अगर मेरा/हमारा घर को भगवान का घर कहना/अपनाया तो मेरा ये प्रसंग बताना सफल होगा। आप इसके अन्दर छिपे गूढ़ अर्थ/स्वरूप को भी समझें!

 

यदि आपको CHANGE YOUR LIFE की MOTIVATIONAL कहानियां पसंद आती हैं या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हैं तो हमें thechangeyourlife@gmail.com पर लिखें या Facebook, Twitter पर संपर्क करें।

 

यह भी पढ़े :-

sanskar-real-education | 10 संस्कार जो बच्चे को सीखने जरुरी है।

 

NEVER REGRET : 5-things-you-should-never-do | 5 चीजें जो आपको कभी नहीं करनी चाहिए  ?

 

ढाबा चलानेवाला12वीं पास लड़का, बन गया रिजॉर्ट का मालिक | 12th pass boy running Dhaba, became the owner of the resort

 

चाय पी के cup खा लो

 

सपनों का मतलब | सपनों का अर्थ | sapno ka matlab | sapno ka matlab hindi

 

YouTube चैनल शुरू करते ही होगी अंधाधुंध कमाई, जानें कमाल का तरीका

 

बेटे के चॉकलेट खाने की ज़िद ने लॉकडाउन में शुरू करवा दिया टीचर मम्मी का साइड बिज़नेस

 

medium.com

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.